सुकुन  

मंगलवार, 7 सितंबर 2010





मिले सुकूं कहीं ऐसी कोई बात हो,
मै हूँ तनहा और मेरे जज़्बात हो,
हुए महफ़िल से मायूश बहुत हम आज,
डशे ख़ामोशी, काश ऐसी कोई रात हो.................
                                                                           - राज 

AddThis Social Bookmark Button
Email this post


Design by Raj k kushwaha