रोशनी  

रविवार, 1 मई 2011

रोशनी यूँ आती रही सलाख़ों से मेरी खाट पर,


जाने क्यूँ अब नींद आती नही मुझे रात भर,


दिनो बाद दिखी थी झिलमिलाती चाँदनी ,


मानो कोई दे गया खुशी मुझे खैरात पर।
                                                                    - राज

AddThis Social Bookmark Button
Email this post


Design by Raj k kushwaha